मंगलवार, 15 सितंबर 2015

हमारे साथ तुम कही बस डूब न जाओ
हमें छोड़ दो तुम तैर कर पार हो जाओ |

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें