बुधवार, 22 फ़रवरी 2017

तुम्हारा सलूक मुझसे जब इतना सर्द होता तुम्हे कैसे बताऊँ मुझको कैसा दर्द होता है ।

तुम्हारा सलूक मुझसे जब इतना सर्द होता
तुम्हे कैसे बताऊँ मुझको कैसा दर्द होता है ।

कोठे बेशक बहुत बदनाम है लेकिन कोठियो के खिड़की मे झांक मत लेना ।

कोठे बेशक बहुत बदनाम है लेकिन
कोठियो के खिड़की मे झांक मत लेना ।