मंगलवार, 15 सितंबर 2015

जो मेरे साथ चलने की कसम खाए हुए हैं
वो खुद ही बर्बादी के करीब आये हुए है |

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें