शुक्रवार, 12 जून 2015

तुमने जलील कर दिया पर अब मेरा इन्तजार करो
जितना कर सकते हो तुम जी भर मुझ पर वार करो
मैं जब सामने आ जाऊंगा तब तकलीफ होगी तुम्हे
बता दे हूँ रहा तुमको तुम खुद को अब तैयार करो |

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें