रविवार, 7 जून 2015

देखो अब दिन डूब रहा है अब हमको भी सोना है
बस सपने ही अपने होंगे बाकी सब कुछ खोना है |

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें