बुधवार, 8 अगस्त 2018

कुर्सियां और आदमी

पहले काठ से कुर्सियां बनती थी
आज भी काठ से भी बनती है
पहले भी आदमी होते थे
और
आज भी आदमी होते है
पहले भी आदमी ही
कुर्सी पर बैठते थे
और
कभी कभी कुत्ते भी
आज भी कुर्सी पर
आदमी ही बैठते है
पर पहले कुर्सियों पर बैठकर भी
आदमी आदमी ही रहता था
और कुत्ता कुत्ता ही
पर अब कुर्सियों पर बैठकर
आदमी खुद काठ बन गया है
पर कुत्ते तो कुत्ते ही रह गए ।
क्या बदल गया कुर्सियों में
या आदमी में
खोज होनी ही चाहिए
और ये भी
की
पहले कुर्सियां खत्म होंगी
या आदमी खत्म हो जाएंगे ।

कोई टिप्पणी नहीं :

एक टिप्पणी भेजें